G-20 Summit: Delhi Roads And Transport System Will Be World Class – G-20 Summit : विश्वस्तरीय होंगी दिल्ली की सड़कें और परिवहन व्यवस्था, Lg की बैठक में तैयारियों की समीक्षा

ख़बर सुनें

जी-20 शिखर सम्मेलन के लिए राजधानी की सड़कों और परिवहन व्यवस्था को विश्वस्तरीय बनाया जाएगा। बुधवार को उपराज्यपाल वीके सक्सेना की अध्यक्षता में तैयारियों की समीक्षा के लिए हुई बैठक में बुनियादी सुविधाओं को सुदृढ़ बनाने के लिए सभी पहलुओं पर मंथन किया गया। फ्लाईओवर और सड़कों का सौंदर्यीकरण, डबल डेकर बसें चलाने के साथ- साथ प्रतिनिधियों और आगंतुकों के लिए होटल, रेस्तरां, बाजारों को भी नए सिरे से विकसित किया जाएगा। बैठक में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, मंत्री कैलाश गहलोत, राज कुमार आनंद, मुख्य सचिव, पुलिस आयुक्त, अध्यक्ष (एनडीएमसी), वीसी (डीडीए), विशेष अधिकारी (एमसीडी), आयुक्त (एमसीडी) और पीडब्ल्यूडी जैसे सभी संबंधित विभागों के प्रमुख , डीजेबी, डीटीसी, परिवहन, यातायात, स्वास्थ्य और पर्यटन विभाग के अधिकारी शामिल हुए। अस्वस्थ होने की वजह से मुख्यमंत्री इस बैठक में शामिल नहीं हो सके।

उपराज्यपाल ने जी-20 शिखर सम्मेलन को राष्ट्रीय राजधानी के लिए दुनिया के सामने खुद को प्रदर्शित करने के लिए एक अभूतपूर्व अवसर बताया। एलजी ने इस बात पर जोर दिया कि मील के पत्थर का इस्तेमाल दिल्ली को हमेशा के लिए स्वच्छ और उत्सव के लिहाज से उभरने के लिए किया जाना चाहिए। एलजी ने बताया कि उन्होंने व्यक्तिगत तौर पर पिछले छह महीनों में आईजीआई एयरपोर्ट रोड से धौला कुआं तक सड़क के विस्तार के सौंदर्यीकरण के लिए कई कदम उठाए हैं। दिल्ली में होने वाले आठ आयोजनों के लिहाज से पूर्ण बदलाव और नवीनीकृत करने को जरूरी बताया।  एक मार्च, 2023 से जी-20 देशों के विदेश मंत्रियों की मुलाकात होगी। 9-10 सितंबर को सरकारों और राज्यों के प्रमुखों की शिखर बैठक के साथ समापन होगा। 

एजेंसियों के बीच निर्बाध समन्वय जरूरी 
उपराज्यपाल ने बताया कि मार्च में पहले आयोजन में महज 108 दिन बचे हैं, जबकि सितंबर में होने वाले जी-20 शिखर सम्मेलन में 250 दिन शेष हैं। उन्होंने कहा कि एक तरफ कार्यों के लिए बहुत कम वक्त है। रिकॉर्ड समय में दिल्ली को नवीनीकृत और बदलाव का मौका मिला है। एलजी ने कहा कि कार्यों के निष्पादन के लिए एजेंसियों के बीच निर्बाध समन्वय के साथ साथ एक टीम के तौर पर काम करने की जरूरत है। एलजी ने आगाह किया कि कार्यों में किसी भी चूक को बेहद गंभीरता से लिया जाएगा। इसके लिए जिम्मेदारियां तय करते हुए सख्त कार्रवाई भी होगी। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने आगामी शिखर सम्मेलन और इससे संबंधित कार्यक्रमों को दिल्ली के एक बड़ा अवसर बताया। साथ ही कहा कि मेजबान शहर के रूप में दिल्ली की सफलता सुनिश्चित करना सरकार की एक बड़ी जिम्मेदारी भी है। इस मौके पर अध्यक्ष (एनडीएमसी) की ओर से एक प्रस्तुति पेश की गई। इसमें चार अहम बिंदुओं को दर्शाया गया।

सौंदर्यीकरण की योजना

  • कूड़े को अलग करने और दिल्ली के सभी हिस्सों में अच्छी गुणवत्ता वाले कूड़ेदान 
  • पीडब्ल्यूडी और एमसीडी की सभी सड़कों के बीच और किनारों की पहचान कर सफाई करना 
  • सभी मौजूदा लैंडफिल साइट को किया जाएगा समतल, इसे तेजी से पूरा करने के पुख्ता इंतजाम किए जाएंगे। इसके तहत अपशिष्ट प्रबंधन किया जाएगा। आयोजन के शुरू होने से पहले ओखला लैंडफिल साइट पर काम पूरा करने किया जाएगा। 
  • दिल्ली के सभी बाजारों और सार्वजनिक स्थानों का सौंदर्यीकरण, सार्वजनिक स्थानों पर लगाई जाएंगी मूर्तियां
5 जी और डबल डेकर, सेंट्रल विस्टा के स्ट्रेच पर होगी एकरूपता 
परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने भरोसा दिया कि इलेक्ट्रिक बसों के बेड़े में बढ़ोतरी के साथ- साथ सार्वजनिक परिवहन की ब्रांडिंग की दिशा में भी सभी कार्य समय पर पूरे किए जाएंगे। बैठक में उपराज्यपाल ने दोहराया कि जी-20 शिखर सम्मेलन एक मील का पत्थर होगा। इस मौके का उपयोग लंबे समय तक के लिए दिल्ली में बदलाव के लिए किया जाना चाहिए। उन्होंने कर्तव्य पथ के बीच के स्ट्रेच के वास्तुशिल्प और सौंदर्य की एकरूपता को जरूरी बताया। दूसरे देशों के प्रतिनिधि यात्रा करेंगे और प्रगति मैदान में कन्वेंशन सेंटर जैसे स्थलों का दौरा भी करेंगे। 

दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम

  • 5-6 जून, 2023 को संसद-20 शिखर सम्मेलन 
  • 3-6 सितंबर, 2023 को चौथी शेरपा बैठक
  • 5-6 सितंबर, 2023 को चौथी वित्त और केंद्रीय बैंक के प्रतिनिधियों की बैठक 
  • 6 सितंबर को संयुक्त शेरपा और उप वित्त की बैठक 
  • 7 सितंबर को संयुक्त वित्त और ऊर्जा डिप्टी मीटिंग 
  • 8 सितंबर को संयुक्त वित्त और ऊर्जा मंत्रियों की बैठक

दिल्ली का इंफ्रास्ट्रक्चर

  • सड़कों के बुनियादी ढांचे में सुधार 
  • यात्रा और परिवहन व्यवस्था में सुधार
  • साइनेज नए रंग में दिखेंगे तो फ्लाईओवर के नीचे होगा सौंदर्यीकरण
  • सड़कें और फुटपाथ संवारे जाएंगे और सभी सार्वजनिक जगहों पर पानी के पानी की उपलब्धता होगी
  • जलभराव की समस्या की रोकथाम के लिए पुख्ता इंतजाम किए जाएंगे। जी-20 समिट सहित दिल्ली में छह कार्यक्रम आयोजित होंगे। इस दौरान मॉनसून के सक्रिय होने पर हालात ना बिगड़े इसके लिए माकूल इंतजाम किए जाएंगे

भारतीय संस्कृति  का प्रदर्शन

  • खूबसूरत लैंडस्केपिंग, कुतुब मीनार, लोदी गार्डन, लाल किला, पुराना किला, हुमायूं का मकबरा और सुंदर नर्सरी जैसे स्मारक होंगे रोशन  
  • कनॉट प्लेस, चांदनी चौक, खान मार्केट, दिल्ली हाट जैसे प्रतिष्ठित बाजारों को सौंदर्यीकृत्त और होगा कायाकल्प। जी-20 के प्रतिनिधि और आगंतुक दौरा करेंगे
  • बंगला साहिब गुरुद्वारा, इस्कॉन मंदिर में लंगर में भी हो सकेंगे शामिल 
नई दिल्ली को स्वच्छ बनाना बड़ी जिम्मेदारी: एनडीएमसी
एनडीएमसी ने जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान नई दिल्ली इलाके को साफ-सुथरा बनाने कवायद शुरू कर दी है। इस कड़ी में एनडीएमसी ने विभिन्न संस्थाओं को ही नहीं, बल्कि आम नागरिकों को भी स्वच्छ भारत मिशन से जोड़ने का निर्णय लिया है। इस मामले में गत वर्ष कार्य करने वाली संस्थाओं व नागरिकों को एमसीडी ने बुधवार को एक कार्यक्रम में सम्मानित किया। इस दौरान एनडीएमसी के अध्यक्ष ने कहा कि जी-20 शिखर सम्मेलन में नई दिल्ली को स्वच्छ बनाना बड़ी जिम्मेदारी है।

एनडीएमसी के अध्यक्ष अमित यादव ने पैरा ओलंपियन व एनडीएमसी की ब्रांड अंबेसडर डा. दीपा मलिक के साथ नई दिल्ली क्षेत्र के नागरिकों और संस्थाओं को सम्मानित किया। उन्होंने विभिन्न प्रतियोगिताओं में जीत हासिल की थी। इस मौके पर अमित यादव ने आगामी स्वच्छ सर्वेक्षण- 2023 में सात स्टार रेटिंग का लक्ष्य निर्धारित करने का आह्वान किया, क्योंकि आगामी वर्ष जी-20 शिखर सम्मेलन नई दिल्ली क्षेत्र में आयोजित किया जाएगा। 

नागरिक जुड़ेंगे, बढ़ेगी युवाओं की भागीदारी
दिल्ली वासियों को इस आयोजन में स्वेच्छा से शामिल होने का मौका देने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। सड़कों में सुधार किया जाएगा और स्वच्छता भी होगी। जी-20 मैराथन, सप्ताहांत सामुदायिक कार्यक्रम, ट्विटर/इंस्टाग्राम अभियान, ऑटो, रिक्शा, मेट्रो और बसों को सजाया जाएगा। इसके अलावा निबंध लेखन, वाद-विवाद जैसे कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएंगे। कला और फोटोग्राफी प्रतियोगिताएं, जी-20 की थीम पर वॉल एक्सप्रेशन, मॉडल जी-20 परिचर्चा भी होंगी। 

नई दिल्ली क्षेत्र के एक बार फिर विश्वस्तरीय शहरों की भांति चमकेगा। एनडीएमसी ने कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान की तरह जी-20 शिखर सम्मेलन के समय भी नई दिल्ली को सजाने व संवारने के लिए छह योजनाएं तैयार की है। इन योजनाओं को अमलीजामा पहनाने के दौरान देश की संस्कृति की भी झलक दिखाई देगी। वह इन योजनाओं पर करीब 85 करोड़ रुपये खर्च करेगी। उसने दो योजना के तहत तो कार्य भी आरंभ कर दिया है। 

एनडीएमसी ने नई दिल्ली इलाके का सौंदर्यीकरण करने के लिए सड़कें नए सिरे से बनाएगी। सड़कों के साथ फुटपाथ बनाए जाएगे। इसके अलावा सड़कों के साथ हरित पट्टी विकसित की जाएगी और सड़कों को जगमग करने के लिए नई स्ट्रीट लाइट लगाने की योजना है। खास बात यह है कि सड़कों पर स्ट्रीट लाइट लगाने की योजना पर कार्य आरंभ हो चुका है। इसके बाद फुटपाथ बनाने का कार्य आरंभ होगा। सरदार पटेल मार्ग पर रिज क्षेत्र की ओर रेलिंग लगानी शुरू कर दी गई है। यह दोनों कार्य पूरे होने के पश्चात सड़कों के साथ हरित पट्टी विकसित की जाएगी। इस योजना का कार्य भी शुरू कर दिया गया है।

एनडीएमसी अपनी कई नर्सरी में पौधे तैयार कर रही है। एनडीएमसी खास तौर पर 41 सड़कों काे सजाएगी। एनडीएमसी अपनी 41 सड़कों के मध्य स्थित गोल चक्करों का भी पुनर्विकास करेगी। इन गोल चक्करों पर ग्रेनाइट पत्थर लगाया जाएगा। इसके अलावा आकर्षित टाइलें भी लगाने की योजना है। वहीं गोल चक्करों में फव्वारे और मूर्ति भी लगाई जाएगी। इन गोल चक्करों के आसपास के इलाके में रंगाई भी जाएगी और विदेशी फूल भी लगाए जाएंगे। एनडीएमसी राज्यों की संस्कृति सेे ओतप्रोत कलाकृतियां भी बनवाएगी। कई सड़कों पर रामायण व महाभारत के दृश्यों की भी कलाकृतियां दिखाई देगी। 
प्रमुख स्थानों के आसपास के इलाके को भी संवारा जाएगा

जी-20 शिखर सम्मेलन में राजधानी में कई विकसित देशों के प्रतिनिधि भारत आएंगे। वह नई दिल्ली में ठहरेंगे और उनके नई दिल्ली इलाके में सैर सपाटा करने की भी संभावना है। इस कड़ी में एनडीएमसी अपनी विभिन्न मार्केट व हनुमान मंदिर समेत अन्य प्रमुख स्थानों वाले के आसपास के इलाके का भी कायाकल्प करेगी। इसके अलावा सड़कों व फुटपाथों को अतिक्रमण करेगी। इसी तरह होटलों के आसपास के क्षेत्र को भी सजाया जाएगा।

विस्तार

जी-20 शिखर सम्मेलन के लिए राजधानी की सड़कों और परिवहन व्यवस्था को विश्वस्तरीय बनाया जाएगा। बुधवार को उपराज्यपाल वीके सक्सेना की अध्यक्षता में तैयारियों की समीक्षा के लिए हुई बैठक में बुनियादी सुविधाओं को सुदृढ़ बनाने के लिए सभी पहलुओं पर मंथन किया गया। फ्लाईओवर और सड़कों का सौंदर्यीकरण, डबल डेकर बसें चलाने के साथ- साथ प्रतिनिधियों और आगंतुकों के लिए होटल, रेस्तरां, बाजारों को भी नए सिरे से विकसित किया जाएगा। बैठक में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, मंत्री कैलाश गहलोत, राज कुमार आनंद, मुख्य सचिव, पुलिस आयुक्त, अध्यक्ष (एनडीएमसी), वीसी (डीडीए), विशेष अधिकारी (एमसीडी), आयुक्त (एमसीडी) और पीडब्ल्यूडी जैसे सभी संबंधित विभागों के प्रमुख , डीजेबी, डीटीसी, परिवहन, यातायात, स्वास्थ्य और पर्यटन विभाग के अधिकारी शामिल हुए। अस्वस्थ होने की वजह से मुख्यमंत्री इस बैठक में शामिल नहीं हो सके।

उपराज्यपाल ने जी-20 शिखर सम्मेलन को राष्ट्रीय राजधानी के लिए दुनिया के सामने खुद को प्रदर्शित करने के लिए एक अभूतपूर्व अवसर बताया। एलजी ने इस बात पर जोर दिया कि मील के पत्थर का इस्तेमाल दिल्ली को हमेशा के लिए स्वच्छ और उत्सव के लिहाज से उभरने के लिए किया जाना चाहिए। एलजी ने बताया कि उन्होंने व्यक्तिगत तौर पर पिछले छह महीनों में आईजीआई एयरपोर्ट रोड से धौला कुआं तक सड़क के विस्तार के सौंदर्यीकरण के लिए कई कदम उठाए हैं। दिल्ली में होने वाले आठ आयोजनों के लिहाज से पूर्ण बदलाव और नवीनीकृत करने को जरूरी बताया।  एक मार्च, 2023 से जी-20 देशों के विदेश मंत्रियों की मुलाकात होगी। 9-10 सितंबर को सरकारों और राज्यों के प्रमुखों की शिखर बैठक के साथ समापन होगा। 

एजेंसियों के बीच निर्बाध समन्वय जरूरी 

उपराज्यपाल ने बताया कि मार्च में पहले आयोजन में महज 108 दिन बचे हैं, जबकि सितंबर में होने वाले जी-20 शिखर सम्मेलन में 250 दिन शेष हैं। उन्होंने कहा कि एक तरफ कार्यों के लिए बहुत कम वक्त है। रिकॉर्ड समय में दिल्ली को नवीनीकृत और बदलाव का मौका मिला है। एलजी ने कहा कि कार्यों के निष्पादन के लिए एजेंसियों के बीच निर्बाध समन्वय के साथ साथ एक टीम के तौर पर काम करने की जरूरत है। एलजी ने आगाह किया कि कार्यों में किसी भी चूक को बेहद गंभीरता से लिया जाएगा। इसके लिए जिम्मेदारियां तय करते हुए सख्त कार्रवाई भी होगी। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने आगामी शिखर सम्मेलन और इससे संबंधित कार्यक्रमों को दिल्ली के एक बड़ा अवसर बताया। साथ ही कहा कि मेजबान शहर के रूप में दिल्ली की सफलता सुनिश्चित करना सरकार की एक बड़ी जिम्मेदारी भी है। इस मौके पर अध्यक्ष (एनडीएमसी) की ओर से एक प्रस्तुति पेश की गई। इसमें चार अहम बिंदुओं को दर्शाया गया।

सौंदर्यीकरण की योजना

  • कूड़े को अलग करने और दिल्ली के सभी हिस्सों में अच्छी गुणवत्ता वाले कूड़ेदान 
  • पीडब्ल्यूडी और एमसीडी की सभी सड़कों के बीच और किनारों की पहचान कर सफाई करना 
  • सभी मौजूदा लैंडफिल साइट को किया जाएगा समतल, इसे तेजी से पूरा करने के पुख्ता इंतजाम किए जाएंगे। इसके तहत अपशिष्ट प्रबंधन किया जाएगा। आयोजन के शुरू होने से पहले ओखला लैंडफिल साइट पर काम पूरा करने किया जाएगा। 
  • दिल्ली के सभी बाजारों और सार्वजनिक स्थानों का सौंदर्यीकरण, सार्वजनिक स्थानों पर लगाई जाएंगी मूर्तियां

5 जी और डबल डेकर, सेंट्रल विस्टा के स्ट्रेच पर होगी एकरूपता 

परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने भरोसा दिया कि इलेक्ट्रिक बसों के बेड़े में बढ़ोतरी के साथ- साथ सार्वजनिक परिवहन की ब्रांडिंग की दिशा में भी सभी कार्य समय पर पूरे किए जाएंगे। बैठक में उपराज्यपाल ने दोहराया कि जी-20 शिखर सम्मेलन एक मील का पत्थर होगा। इस मौके का उपयोग लंबे समय तक के लिए दिल्ली में बदलाव के लिए किया जाना चाहिए। उन्होंने कर्तव्य पथ के बीच के स्ट्रेच के वास्तुशिल्प और सौंदर्य की एकरूपता को जरूरी बताया। दूसरे देशों के प्रतिनिधि यात्रा करेंगे और प्रगति मैदान में कन्वेंशन सेंटर जैसे स्थलों का दौरा भी करेंगे। 

दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम

  • 5-6 जून, 2023 को संसद-20 शिखर सम्मेलन 
  • 3-6 सितंबर, 2023 को चौथी शेरपा बैठक
  • 5-6 सितंबर, 2023 को चौथी वित्त और केंद्रीय बैंक के प्रतिनिधियों की बैठक 
  • 6 सितंबर को संयुक्त शेरपा और उप वित्त की बैठक 
  • 7 सितंबर को संयुक्त वित्त और ऊर्जा डिप्टी मीटिंग 
  • 8 सितंबर को संयुक्त वित्त और ऊर्जा मंत्रियों की बैठक

दिल्ली का इंफ्रास्ट्रक्चर

  • सड़कों के बुनियादी ढांचे में सुधार 
  • यात्रा और परिवहन व्यवस्था में सुधार
  • साइनेज नए रंग में दिखेंगे तो फ्लाईओवर के नीचे होगा सौंदर्यीकरण
  • सड़कें और फुटपाथ संवारे जाएंगे और सभी सार्वजनिक जगहों पर पानी के पानी की उपलब्धता होगी
  • जलभराव की समस्या की रोकथाम के लिए पुख्ता इंतजाम किए जाएंगे। जी-20 समिट सहित दिल्ली में छह कार्यक्रम आयोजित होंगे। इस दौरान मॉनसून के सक्रिय होने पर हालात ना बिगड़े इसके लिए माकूल इंतजाम किए जाएंगे

भारतीय संस्कृति  का प्रदर्शन

  • खूबसूरत लैंडस्केपिंग, कुतुब मीनार, लोदी गार्डन, लाल किला, पुराना किला, हुमायूं का मकबरा और सुंदर नर्सरी जैसे स्मारक होंगे रोशन  
  • कनॉट प्लेस, चांदनी चौक, खान मार्केट, दिल्ली हाट जैसे प्रतिष्ठित बाजारों को सौंदर्यीकृत्त और होगा कायाकल्प। जी-20 के प्रतिनिधि और आगंतुक दौरा करेंगे
  • बंगला साहिब गुरुद्वारा, इस्कॉन मंदिर में लंगर में भी हो सकेंगे शामिल 

नई दिल्ली को स्वच्छ बनाना बड़ी जिम्मेदारी: एनडीएमसी

एनडीएमसी ने जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान नई दिल्ली इलाके को साफ-सुथरा बनाने कवायद शुरू कर दी है। इस कड़ी में एनडीएमसी ने विभिन्न संस्थाओं को ही नहीं, बल्कि आम नागरिकों को भी स्वच्छ भारत मिशन से जोड़ने का निर्णय लिया है। इस मामले में गत वर्ष कार्य करने वाली संस्थाओं व नागरिकों को एमसीडी ने बुधवार को एक कार्यक्रम में सम्मानित किया। इस दौरान एनडीएमसी के अध्यक्ष ने कहा कि जी-20 शिखर सम्मेलन में नई दिल्ली को स्वच्छ बनाना बड़ी जिम्मेदारी है।

एनडीएमसी के अध्यक्ष अमित यादव ने पैरा ओलंपियन व एनडीएमसी की ब्रांड अंबेसडर डा. दीपा मलिक के साथ नई दिल्ली क्षेत्र के नागरिकों और संस्थाओं को सम्मानित किया। उन्होंने विभिन्न प्रतियोगिताओं में जीत हासिल की थी। इस मौके पर अमित यादव ने आगामी स्वच्छ सर्वेक्षण- 2023 में सात स्टार रेटिंग का लक्ष्य निर्धारित करने का आह्वान किया, क्योंकि आगामी वर्ष जी-20 शिखर सम्मेलन नई दिल्ली क्षेत्र में आयोजित किया जाएगा। 

नागरिक जुड़ेंगे, बढ़ेगी युवाओं की भागीदारी

दिल्ली वासियों को इस आयोजन में स्वेच्छा से शामिल होने का मौका देने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। सड़कों में सुधार किया जाएगा और स्वच्छता भी होगी। जी-20 मैराथन, सप्ताहांत सामुदायिक कार्यक्रम, ट्विटर/इंस्टाग्राम अभियान, ऑटो, रिक्शा, मेट्रो और बसों को सजाया जाएगा। इसके अलावा निबंध लेखन, वाद-विवाद जैसे कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएंगे। कला और फोटोग्राफी प्रतियोगिताएं, जी-20 की थीम पर वॉल एक्सप्रेशन, मॉडल जी-20 परिचर्चा भी होंगी। 

Leave a Comment